रविवार, 11 दिसंबर 2011

ये मौसम सुहाने .

सिल्क की पार्श्वभूमी है इस भित्ती चित्र में.झरना बना है एक सिल्क की चोटी से जिसे मैंने कंघी से खोल दिया! रंगीन सिल्क के टुकड़ों में से छोटे छोटे पत्ते  काट के टांक दिए  हैं.दो तीन क्रोशिये की चेन भी टांक दीं हैं,बेलों की तौर पे. उर्वरित कपडे  पे कढ़ाई की है.

 सावन  के  झरने ,
बहारों के साए,
पतझड़  के  पत्ते
मिले हैं आके यहाँ पे..

हम रहे न रहें,
किया है क़ैद इन्हें
तुम्हारे लिए,
ये अब जा न पायें..

भूल जाना दर्द सारे,
जो गर मैंने दिए,
साथ रखना अपने,
ये मौसम सुहाने..

36 टिप्‍पणियां:

ज्ञानचंद मर्मज्ञ ने कहा…

वाह,बहुत सुन्दर !
आभार !

Kailash C Sharma ने कहा…

बहुत खूब !

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

सुन्दर कलाकारी, काग़ज़ पर भी, कपड़े पर भी।

घनश्याम मौर्य ने कहा…

बढि़या। मेरा सुझाव है कि आप जो कलाकृतियां बनाती हैं, उसे बनाने की विधि के बार में थोडा विस्‍तार से लिखें तो और महिलायें प्रेरित होंगी। हस्‍तशि‍ल्‍प को समर्पित कोई हिन्‍दी ब्‍लॉग है भी नहीं शायद अभी तक। वैसे बहुत ही बढि़या कलाकृति बनायी है आपने।

Rajesh Kumari ने कहा…

kavita to sundar hai hi aapki kadhaai kalakari kabile taareef hai.

सदा ने कहा…

भूल जाना दर्द सारे,
जो गर मैंने दिए,
साथ रखना अपने,
ये मौसम सुहाने..
बहुत खूब कहा है आपने ।

Patali-The-Village ने कहा…

बढि़या। सुन्दर कलाकारी|

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की जा रही है! आपके ब्लॉग पर अधिक से अधिक पाठक पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

शारदा अरोरा ने कहा…

हम रहे न रहें,
किया है क़ैद इन्हें
तुम्हारे लिए,
ये अब जा न पायें..
badhiya ..jaise chitr aur kavita ke roop me kaid kar diya ho ....

Arvind Mishra ने कहा…

भावों की कलात्मक प्रस्तुति!हम तो कायल ही रहे हैं इस अनूठी विधा के

अनामिका की सदायें ...... ने कहा…

bahut sunder kadhayi ka kaam aur us par ye shabd vyanjana...sone pe suhaga.

kabhi aapse milna hua to apse koi ek apki kriti to maang hi lungi.

Atul Shrivastava ने कहा…

सुंदर रचना।

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

dono cheejen hi bahut uttam..

काजल कुमार Kajal Kumar ने कहा…

वाह एक सुंदर सकारात्मक अभिव्यक्ति

सतीश सक्सेना ने कहा…

स्वागत योग्य भावनाएं ....शुभकामनायें !

mridula pradhan ने कहा…

bahut sunder......

दिगम्बर नासवा ने कहा…

भूल जाना दर्द सारे,
जो गर मैंने दिए,
साथ रखना अपने,
ये मौसम सुहाने...

काश की ऐसा हो पाता इस जहां में ... लोग तो बार जख्मों को ही याद रखना चाहते हैं ... जबरदस्त दस्तकारी की साथ लाजवाब रचना है ...

सदा ने कहा…

कल 14/12/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्‍वागत है, मसीहा बनने का संस्‍कार लिए ....

संजय भास्कर ने कहा…

खुबसूरत चित्रावली के साथ सुन्दर रचना...
सादर बधाइयां..

S.M.HABIB (Sanjay Mishra 'Habib') ने कहा…

सुन्दर रचना...
सादर बधाई...

veerubhai ने कहा…

कागज़ पर भी कपडे पर भी मोती ही मोती और अपनों के लिए खाब ही खाब बिखेर दिए आपने .

vandana ने कहा…

बढ़िया कृति.... दोनों ही

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

जितना सुन्दर बीतती चित्र उतना ही सुन्दर इस रचना का भाव ... बहुत खूब

kumar zahid ने कहा…

kavita ki kadhaii aur kadhaii ki kavita,


sundarta aapko jeeti hai ya aap sundarta ko jeeti hain...


sundar hain teenon kasseda, kavita aur aapka sondaryabodh...

***Punam*** ने कहा…

सावन के झरने ,
बहारों के साए,
पतझड़ के पत्ते
मिले हैं आके यहाँ पे..



और सब यहाँ कैनवास पर उतर गए...

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) ने कहा…

बेहतरीन।

सादर

anju(anu) choudhary ने कहा…

bahut khub....bahut khub

Kunwar Kusumesh ने कहा…

वाह क्या बात है.

Mamta Bajpai ने कहा…

bahut sundar

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

बहुत खूबसूरती से सम्भाला सहेजा है मौसम के ज़रिये यादों को.. ऐसे में यादें कभी धुंधली नहीं पड़ सकतीं!!

Deepak Shukla ने कहा…

Kshama ji..

kabhi baharen, meethe sapne...
dil par thi haryali si...
bhitti chitr main sahaj nipunta...
main dikhti khushhali si...

aaj magar wo baat nahin hai...
jaane kyon humko lagta...
dard chhupaye kuch ho baithe..
nahi aaj tak kabhi kaha...

khud se bhi chhupkar baithe tum..
antarman main jalte se...
kavita aur aalekh se tere...
bhav hamesha dikhte se...

Chitr batata bhav "wo" dil ke...
par kavita main dard chhupa...
"Jaan jayenge dheere dheere.."...
akhir kab?? main poochh raha..

.......
.......

Deepak Shukla..

Deepak Shukla ने कहा…

agar aap mere comment ko prakashit na karna chahen to krupya mujhe mail kar deejiyega..kyonki maine ise copy nahin kiya hai...

deepakshukla8@gmail.com

Deepak Shukla ने कहा…

Kshama ji...

Meri pratikriya aap tak pahunchi na.....?? Ya aapne abhi dekhi hi nahi ab tak...??

mahendra verma ने कहा…

कविता के भाव चित्र में स्पष्ट दिखाई दे रहे हैं।

ZEAL ने कहा…

कविता और चित्र दोनों में ही आपका निश्छल मन दिख रहा है मुझे....

Urmi ने कहा…

बहुत ख़ूबसूरत कलाकारी और साथ ही उम्दा रचना के लिए बधाई!